Ticker

6/recent/ticker-posts

खुशखबरी : जल्दी ही भारत में मिलेगी कोरोना की सबसे सस्ता दवा, मात्र 59 रु होगी एक टैबलेट की कीमत, जानें विस्तार में


फाइनेंशियल एक्सप्रेस में प्रकाशित खबर के अनुसार ब्रिन्टन फार्मा ने जानकारी दी है कि फैवीटॉन 200 मिलीग्राम की टैबलेट में उपलब्ध होगी। एक टैबलेट की कीमत मात्र 59 रुपये होगी।


कोरोना वायरस, पूरे विश्व में महामारी का कारण बना है। इस बीमारी की अब सबसे सस्ती दवा बन गई है। एक दवा कंपनी को भी इसे बाजार में लाने की अनुमति मिल गई है। दवा कंपनी ने इस दवा को बाजार में लाने के लिए ड्रग्स कंट्रोलर ऑफ इंडिया (DCGI) से अनुमति ली है। आपको बता दें कि इस दवा का एक टेबलेट सिर्फ 59 रुपये में उपलब्ध होगा। इस दवा का नाम फेविटन है। ब्रिंटन फार्मास्यूटिकल्स ने इस दवा को बनाया है। कंपनी का दावा है कि यह दवा एक एंटीवायरल दवा है जो कोरोना के मरीजों को कोरोना वायरस से लड़ने में मदद करेगी। इस दवा को बाजार में फैवीपिरावीर के नाम से भी बेचा जाता है।

200 mg के एक टेबलेट की कीमत होगी 59 रुपये


फाइनेंशियल एक्सप्रेस में प्रकशित एक खबर के मुताबिक, ब्रिंटन फार्मा ने कहा है कि फेविटन 200 मिलीग्राम के टैबलेट में उपलब्ध कराई जाएगी। मात्र 59 रुपये होगी एक टैबलेट की कीमत। यह कीमत अधिकतम खुदरा मूल्य होगी। इस दवा को इससे अधिक कीमत पर नहीं बेची जाएगी। ब्रेंटन फार्मा के सीएमडी राहुल कुमार दर्डा ने कहा है कि हम चाहते हैं कि यह दवा देश के हर कोरोना मरीज को दी जाए। हम हर कोविद केंद्र में इस दवा को पहुंचाएंगे। हमारी दवा की कीमत फिक्स्ड है। यह सबसे सस्ती दवा है। कंपनी ने कहा है कि इस समय सभी को फेविपिरविर दवा की जरूरत है। यह दवा उन रोगियों के लिए सर्वोत्तम है, जिन्हें कोरोना का हल्का या मध्यम संक्रमण है।

इस दवा को DCGI से पहले ही अनुमति मिल चुकी है


भारत में फैवीपिरावीर को DCGI ने जून में ही कोरोना वायरस की आपातकालीन स्थिति के मद्देनजर मंजूरी दे दी थी। इसे अब बाजार में उतारने की अनुमति दी गई है। जापान की फूजीफिल्म तॉयोमा केमिकल कंपनी के साथ ब्रिन्टन फार्मा एवीगन नाम की दवा बना रही है। फैवीटॉन का जेनेरिक वर्जन है यह दवा।

Post a Comment

0 Comments